दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की मेयर अनामिका जी ने दिखाई दरियादिली। मधेपुरा की बेटी ने बढ़ाया कोशी का मान

0
506

मामला कुछ यूं है कि महरौली के भूल भुलैया के पास एलआईसी बिल्डिंग के ठीक सामने भवन को “Vacation Notice पत्र क्रमांक 2041/AE(B)- II/SZ/2020 दिनांक 23/10/2020” थमा दिया गया है। बिल्डिंग, जिसका पता 29/3-A11 मन्नत अपार्टमेंट है, जो की लालडोरे के अंतर्गत है, यह भवन वर्ष 2013 में बना था और बनते समय बिल्डर के द्वारा सभी कार्य पूर्ण किये गए थे, उसके सारे निवासियों को खाली करने का नोटिस थमा दिया गया है! लेकिन दुर्भाग्य यह है कि कुछ एमसीडी कर्मचारियों की मिलीभगत से तथाकथित माफिया समूह समय-समय पर ऐसे भवनों के निवासियों को कुतुब मीनार के नजदीकी होने का भय दिखाकर खाली करने का नोटिस भिजवाते हैं और तब शुरू होता है असली खेल?

मतलब, खाली करने का डर भोले-भाले फ्लैट मालिकों की नींद हराम कर देता है और वहीं इस मामले को सेटल करने के नाम पर कुछ छुटभैये एजेंट वसूली शुरू कर देते हैं! यह वसूली एक-एक फ्लैट से 15 से 20 हजार रुपये तक की होती है? यह खेल प्रत्येक दो-तीन साल पर एक बार किया जाता है। आप सोंच सकते हैं कि इस गेम में कितनी मोटी कमाई सुनिश्चित होती है?

मधेपुरा की बेटी पर नाज, कोशी क्षेत्र का बढ़ाया मान


इस मामले की जानकारी वैसे तो सभी को थी लेकिन किसी ने इसे उजागर करने को लेकर साहस नहीं दिखाया। मामला तब उजागर हुआ जब प्रार्थी रामकुमार रमन एवं अनुपम कुमारी पुत्र श्री रामेश्वर दास निवासी 29/3-A/1 वार्ड नं 1 फ्लैट नं 1 द्वितीय तल महरौली नई दिल्ली ने दक्षिणी दिल्ली की मेयर समक्ष एक महत्वपूर्ण प्रार्थना लेकर प्रस्तुत हुए। मेयर महोदय ने इस विषय पर तत्काल प्रभाव से कार्यवाई का आदेश दिया और इस गोरखधंधे से संबंधित अधिकारियों की जल्द से जल्द पहचान उजागर कर कारवाई की बात कही है। अतः मेयर अनामिका जी के सार्थक प्रयास से सैकड़ों निवासियों के चेहरों पर खुशी लौट आई। निवासी रमन कहते हैं कि मैडम के पास शिकायत लेकर जाने पर जो आत्मीयता मिली है वह हमसभी के लिए यादगार है। वैसे भी अनामिका जी बिहार के मधेपुरा जिले से आती हैं जहां से मैं भी आता हूँ। इस विषय पर मेयर अनामिका जी से अपनी बात रखने हाईकोर्ट के वरिष्ठ वकील गणेश प्रसाद साह और निगम पार्षद विजय कुमार भगत जी भी साथ थे। जिन्होंने माननीया अनामिका जी के तात्कालिक कार्यवाई से खुशी जाहिर की। जबकि दक्षिणी दिल्ली के संबंधित विभाग में संपर्क करने तथा स्पष्टीकरण मांगने पर कोई भी कुछ कहने को तैयार नहीं हुआ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here