सहरसा कटिहार एवं अन्य स्टेशन से खुलने वाली मेमू ट्रेनों का विस्तार, पैसेंजर ट्रेनें बंद होने से बढ़ी परेशानी

0
1030
Passenger trains chalegi

Passenger trains chalegi: सहरसा-कटिहार-दरभंगा-रक्सौल-पटना से खुलने वाली पसेंजर ट्रेनों का विस्तार किया गया है। पुर्णिया और समस्तीपुर के लिए सहरसा से चले ट्रेन

Passenger trains chalegi : पूर्व मध्य रेलवे ने कई पैसेंजर ट्रेनों की अवधि में विस्तार किया है। कोराना के कारण कई ट्रेनें बंद कर दी गई है। फिलहाल कुछ ही पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है। वहीं रेलवे ने सहरसा,पटना, झाझा,कटिहार, दरभंगा से खुलने वाली पैसेंजर ट्रेनों की अवधि में विस्तार किया है। स्पेशल पैसेंजर ट्रेनें 31 मार्च तक चलेंगी।

सहरसा कटिहार सहित ये मेमू पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन 31 मार्च तक किया जाएगा।

03213/14 पटना झाझा पटना पैसेंजर स्पेशल

03367/68 कटिहार सोनपुर पैसेंजर स्पेशल

03215/16 रक्सौल पाटलिपुत्र पैसेंजर स्पेशल

05509/10 सहरसा जमालपुर पैसेंजर

03359/60 सहरसा पटना पैसेंजर

03357/58 दरभंगा पटना पैसेंजर

03229/30 पटना दीन दयाल उपाध्याय पैसेंजर

Saharsa Samastipur Train: समस्तीपुर पैसेंजर चलाने की मांग।

Saharsa Samastipur Train: सहरसा से खगड़िया, हसनपुर, रूसेरा घाट के रास्ते समस्तीपुर के लिए पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन कोरोना काल से बंद है। त्योहारों के बीच एक पैसेंजर ट्रेन की शुरुवात की गई थी लेकिन छठ के बाद मेमू ट्रेन का परिचालन बंद कर दिया गया। ट्रेन नहीं चलने से दैनिक यात्री सहित, जॉब करने वाले या काम के सिलसिले में एक जगह से दूसरे जगह जाने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। सहरसा से समस्तीपुर के लिए ट्रेन चलाने की मांग सांसद ने भी की है। जब हालत सामान्य होने लगे है। बाजारों में पहले जैसी रौनक है। फिर भी क्या मजबूरी है की पैसेंजर ट्रेन के यात्रियों को रेल सुविधा से वंचित रखा जा रहा है। सहरसा राघोपुर रूट पर भी अतरिक्त पैसेंजर ट्रेन चलाने की मांग की जा रही है जिससे की यात्रियों को इसका लाभ हो।

Saharsa Purnia Train: पूर्णिया रूट पर नहीं चली पैसेंजर ट्रेन

Saharsa Purnia Train: सहरसा से पूर्णिया रूट के यात्रियों पर ट्रेनों के नहीं चलने से संकट का पहाड़ टूट पड़ा है। एक तो ट्रेन पहले से ही बंद हो और जो ट्रेनें चल रही है उनसे किसी यात्री को कोई लाभ नहीं दो ट्रेन रात में चलतीं है और एक हाटे बाजारे भी सप्ताह में दो दिन ही चलतीं है। सहरसा पूर्णिया सड़क की हालत इतनी खराब है की लोगों को 3 घंटे की यात्रा भी 6 से 7 घंटे में तय करनी पड़ती है और ऊपर से परेशानी भी होती है। ट्रेनों के बंद होने से बस संचालक भी दोगुना से ज्यादा किराया वसूल रहे है। लोगों की जेब ढ़ीली हो रही है, लेकिन ट्रेन चलाने को लेकर रेलवे के तरफ से कोई भी कदम नहीं उठाया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here