जिलाधिकारी ने किया सहरसा स्थित मत्स्यगंधा झील का निरीक्षण,जल्द अपने पुराने स्वरूप में लोटेगा झील

0
673

मत्स्यगंधा झील जल्द ही अपने पुराने स्वरूप में नजर आएगी। शनिवार को सहरसा जिलाधिकारी कौशल कुमार ने मत्स्यगंधा झील का निरीक्षण किया। मशीनों की संख्या बढ़ाकर झील की उड़ाही का कार्य तेजी से किया जा रहा है। सहरसा जिलाधिकारी ने मुख्य अभियंता को निर्देश देते हुए कहा कि मत्स्यगंधा झील की उड़ाही का कार्य तय समय सीमा के अंदर पूरा करे। झील की मिट्टी की उड़ाही कर राष्ट्रीय राजमार्ग 107 एवं पावरग्रिड के निर्माण के प्रयोग में लाया जा रहा है। जिलाधिकारी ने निर्देश देते हुए कहा कि उड़ाही की मिट्टी का प्रयोग केवल सरकारी काम मे ही प्रयोग हो सरकारी भवन निर्माण कार्य में इस मिट्टी का प्रयोग किया जाए। इसके अलावा सौरबाजार प्रखण्ड के पदमपुरा में क्रॉस रेगूलेटर गेट का निर्माण किया जा रहा है। इसके पूरा होते ही किसानो को 750 हेक्टयर भूमि में किसानों के लिए सिंचाई की सुविधा उपलब्ध होगी। मत्स्यगंधा झील की उड़ाही का कार्य बरसात के पहले पूरा कर किया जाएगा। जिससे कि बरसात में झील में पानी भरा रहे और सालों भर झील में पानी की कमी न हो। मत्स्यगंधा झील की रौनक फिर से लौटने से पहले की तरह मधेपुरा, सुपौल, खगड़िया सहित पड़ोसी देश नेपाल के लोग आएंगे। हर साल दिवाली छठ पूजा के बाद इस झील के किनारे महायोगिनी मेले का आयोजन किया जाता है जो इस इलाके की एक पहचान है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here