सहरसा डीएम ने शहर के डॉक्टरों के साथ की बैठक, ऑक्सीजन की उपलब्धता और बेड की संख्या बढ़ेगी।

0
837

कोरोना संक्रमण के मामलों में अप्रत्याशित वृद्धि के मद्देनजर सरकार के दिशा-निर्देश के सदर्भ में जिलाधिकारी कौशल कुमार ने आइ.एम.ए. एवं निजी अस्पतालों/क्लिनिक के संचालकों के साथ विकास भवन के सभागार में बैठक की। जिलाधिकारी कौशल कुमार ने कहा कि वर्तमान समय में कोरोना संक्रमण की विषम परिस्थिति है तथा सरकार के गाइड लाईन से अवगत कराने के उद्देश्य से आज बैठक बुलाई गयी है। वर्तमान स्थिति की जानकारी देते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति क्रिटिकल है तथा इस परिस्थिति को आप बेहतर समझते हैं। संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है और अधिकतर मामले ए.सिमटोमेटिक है। विगत 09 मार्च 2021 से अबतक 57799 सेम्पल की जाँच की गई है। कल 227 पॉजिटिव की रिपोर्ट प्राप्त हुई है। इस प्रकार कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 1719 जिसमें से 411 पॉजिटिव रिकवर कर गये है। 13 पॉजिटिव मरीजो को बेहतर इलाज के लिए रेफर किया गया है। वर्तमान समय में कुल 1293 सक्रिय पॉजिटिव मामले जिला में हैं। सक्रिय मरीजों को होम आइसोलेशन में मेडिकल कीट देकर उनका ईलाज चल रहा है। कोविड नियंत्रण कक्ष में माध्यम से नियमित रूप से कोरोना संक्रमण मरीजों का फीडबैक लिया जा रहा है तथा मरीजों की स्थिति एवं गम्भीरता के अनुसार बेहतर ईलाज के लिए जो आवश्यक कारवाई जरूरी है की जा रही है। अबतक 2 (दो) कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मृत्यु प्रतिवेदित है। जिलाधिकारी ने कहा कि विलंब से जाँच होने पर गोल्डेन पीरीयड नहीं मिल पाता है जिसके कारण मरीज की स्थिति गम्भीर हो सकती है। इसलिए अगर किसी व्यक्ति को कोरोना से संबंधित लक्षण प्रतीत होंते हैं तो वे तुरंत अपने नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र/अस्पताल में आकर कोरोना संक्रमण की जाँच जरूर करा लें। मीडिया के माध्यम से भी आमजनों से यह अपील की जा रही है कि समय पर जाँच नहीं कराने पर स्थिति घातक होने की संभावना रहती है। इसलिए ऐसे व्यक्ति समय से अपना जाँच अवश्य करवा लें साथ ही साथ अभी कोरोना का टीकाकरण का कार्य चल रहा है। अभी तक 92296 व्यक्तियों को प्रथम डोज एवं 11969 को सेकेन्ड डोज का टीकाकरण किया जा चुका है। वर्तमान समय में 45 से उपर आयुवर्ग वाले लोगों का हीं टीकाकरण किया जा रहा हैं। जैसा कि घोषणा की गई है 18 वर्ष से उपर आयुवर्ग वाले व्यक्तियों का भी आनेवाले दिनों में टीकाकरण किया जाएगा। जैसे-जैसे वैक्सिन प्राप्त हो रहा है वैसे-वैसे टीकाकरण का कार्य तेजी से किया जा रहा है।

कोविड की जांच अधिकृत जांच कैंद्रो पर ही कराई जाए

जिलाधिकारी ने बताया कि कोविड की जाँच तीन तरह से की जा रही है- आर.टी.सी.पी.सी.आर., एन्टीजेन, एवं टु्रनेट के द्वारा, जिसके लिए सभी सरकारी अस्पताल तथा जिले के दो निजी अस्पताल अधिकृत हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि विगत दिनों यह प्रकाश में आया कि कुछ निजी अस्पताल/क्लिनीक अनाधिकृत रूप में कोरोना संक्रमण की जाँच कर रहे हैं। उनके द्वारा अनाधिकृत रूप से कोरोना संक्रमण की जाँच पूर्णतः गलत है एवं महामारी अधिनियम के विरूद्ध है, निजी अस्पताल/क्लिनीक इससे बचें। कोई भी मृत्यु आवश्यक नहीं है कि वह कोरोना संक्रमण से हीं हुआ हो, अन्य कारण से भी हो सकते हैं। निजी अस्पतालों/क्लिनीक द्वारा अपने स्तर से कोरोना संक्रमण से मृत्यु से संभावना व्यक्त करने पर आमजन में गलत संदेश जाएगा और इसका गलत प्रभाव पड़ेगा। उन्होंने कहा कि यह आपदा का समय है। सभी निजी अस्पतालों/क्लिनीक संचालकों से व्यक्तिगत अनुरोध रहेगा कि यदि मरीज का कोविड जाँच आवश्यक प्रतीत होता है तो उसके सेम्पल की जाँच अधिकृत अस्पतालों में भेजकर करा लें ताकि पॉजिटिव की स्थिति में मरीज का समूचित ईलाज समय पर किया जा सकेगा। यदि कोई मृत्यु होती है तो इसकी सूचना तत्काल सिविल सर्जन कार्यालय, सहरसा को दें। कोरोना से मृत्यु की पुष्टि के लिए जिला प्रषासन एवं स्वास्थ्य विभाग हीं अधिकृत है।

ऑक्सीजन और बेड की संख्या बढ़ाई जाए

जिलाधिकारी ने सरकार के नये निर्देशो से अवगत कराते हुए कहा कि कोरोना जाँच एवं ईलाज हेतु निजी अस्पताल/क्लिनीक अनुमति के लिए सिविल सर्जन कार्यालय, सहरसा में आवेदन कर सकते हैं। यदि वे मानकों को पूरा करते हैं तो उन्हें अनुमति दी जाएगी। उन्हें लॉगिन आई डी एवं पासवर्ड उपलब्ध कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि निजी अस्पतालों/क्लिनिक में जहाँ वेन्टिलेटर, आइ.सी.यू., ऑक्सीजन एवं अन्य सुविधाएं उपलब्ध है वे कोरोना संक्रमण के विरूद्ध जंग में अपनी सहभागिता दें। जो इसमें अपनी भागीदारी निभाना चाहते हैं वे आगे आएं। सरकार द्वारा राज्य में तीन श्रेणियों में अस्पतालों को श्रेणीबद्ध किया गया है। ईलाज के लिए दर का भी निर्धारण किया गया है। सहरसा जिला में भी अच्छे डॉक्टर एवं निजी अस्पताल/क्लिनीक है। ऐसे निजी अस्पताल/क्लिनीक आगे आकर आवेदन करें। जिससे आमजन को अधिक से अधिक चिकित्सीय सुविधा प्राप्त हो सकेगी। जिलाधिकारी ने कोरोना संक्रमण महामारी के नियंत्रण के लिए सबसे सुझाव भी मांगा। ऑक्सीजन की उपलब्धता के विषय में आश्वस्त किया गया कि जिला प्रशासन द्वारा इस संबंध में सभी प्रक्रिया को पूरी कर ऑक्सीजन की ससमय उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाएगी। निजी अस्पतालों/क्लिनीक में बेड की संख्या बढ़ाने के संदर्भ में सिविल सर्जन कार्यालय को आवेदन देने का निर्देश दिया गया। बैठक में उप विकास आयुक्त, प्रभारी सिविल सर्जन, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी सहित आई.एम.ए., निजी अस्पतालों एवं क्लिनीक के संचालकगण उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here