गड्ढे और जाम में जिंदगी गुजारने को मजबूर है लोग, चुनाव के समय सहरसा पुर्णिया एनएच 107 कभी टू लेन तो कभी चार लेन करने की होती है घोषणा

0
1599

कोशी सीमांचल के लोगों की जिंदगी हर चुनाव में होने वाले वादों पर ही टिकी रहती है। चुनावी साल में घोषणाएं होती है फिर अगले चुनाव में उसी घोषणा में कुछ जोर कर फिर से बोल दिया जाता है और जनता खुश। बात करते है सहरसा पुर्णिया राष्ट्रीय राजमार्ग जो न जाने कितने बर्षो से बन रहा है और डेडलाइन तो कब की फैल हो चुकी है लेकिन सड़को पर बड़े बड़े गड्ढों में लोगों की रेंगती है जिंदगी। सहरसा पुर्णिया की सड़क की हालत इतनी खराब है कि 100 किमी का सफर तय करने में 6 से 7 घंटे लग जाते है और बारिश में तो पता नही चलता कि सड़क कहा है और गड्ढा कहा है। शुक्रवार को मधेपुरा मुरलीगंज मार्ग पर सुबह एक बालू लदा ट्रक फंस गया जिससे भयंकर जाम लग गया और करीब 7 से 8 घंटे तक मधेपुरा पुर्णिया एनएच-107 मार्ग पूरी तरह से ठप्प रहा। बारिश के मौसम में हाईवे तालाब बन जाता है और ड्राइवर को सड़क की गहराई का अंदाजा लगाना मुश्किल होता है। पिछले साल भी खराब सड़क और गड्ढों के कारण कई लोगों की जान चली गयी लेकिन आये दिन लगने वाले जाम में होने वाली परेशानियों की कोई सुध लेने वाला नही लेकिन सरकार आये दिन घोषणाएं करती है लेकिन जमीन पर क्या हालात है सब को पता है।

चार लेन होगा सड़क

इसी बीच NHAI ने 90 किमी लंबे महेशखूंट से मधेपुरा के बीच करीब 28 किमी सड़क को चार लेन करने की घोषणा कर दी है। 90 किमी के सड़क का निर्माण गैमन इंडिया कर रही है देखते है कब तक पूरा होता है सड़क का कार्य। बैजनाथपुर के पास सड़क पर बड़े बड़े गड्ढे है यहां पर चार लेन सड़क का निर्माण किया जाना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here