भारत नेपाल के बदलते रिश्तों में जयनगर जनकपुर और बथनाहा विराटनगर रेल परियोजना अधर में लटकी, पढ़े रिपोर्ट

1
4054

भारत और नेपाल के बदलते रिश्तों के बीच दोनों देशों के बीच की रेल परियोजनाएं अधर में लटक गई है। भारत नेपाल के तराई क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए नेपाल से रोटी-बेटी का रिश्ता है। दो ऐसी परियोजनाएं जिसका इन्तजार लंबे समय से लोग कर रहे है। जयनगर जनकपुर बर्दीवास रेल परियोजना के तहत जयनगर से जनकपुर तक ट्रेन का इंतजार करते करते दो वर्ष बीत गए। जयनगर से जनकपुर 34 किमी लंबे रेलखंड पर परियोजना दिसंबर 2018 में पूरी हो गई थी। पिछले साल बाढ़ में ट्रैक ध्वस्त होने के बाद मरम्मत कार्य भी पूरा कर लिया गया था। चेन्नई रेल फैक्ट्री से दो डेमू ट्रेनों की रैक पहुंच चुकी है लेकिन इस रेल परियोजना की शुरुवात कब होगी दोनों देशों के रेल अधिकारी भी कुछ कहने से बचते है। वही दूसरी रेल परियोजना बथनाहा विराटनगर रेल परियोजना भी अधर में लटकी है। इस परियोजना का शिलान्यास 2011 में किया गया था लेकिन 9 वर्ष बीतने के बाद भी एक किमी रेल नही चली। बथनाहा से नेपाल के बुधनगर तक रेल परियोजना 2018 में पूरी हो गयी थी। ट्रेनों का ट्रॉयल भी किया गया था। लेकिन 2 वर्ष बीतने के बाद भी ट्रेनों का परिचालन शुरू नही हो सका। अब देखना है कि दोनों रेल परियोजना दोनों देशों के बीच बदलते रिश्तों में कब तक लटकी रहेगी, दोनों देशों की सरकार इन दोनों रेल परियोनाओ को लेकर कब साथ आती है इसका इंतजार सभी को है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here