मधेपुरा रेल कारखाना से निकला 4 इंजन पिछले एक महीने में 14 सबसे शक्तिशाली रेल इंजन देश को समर्पित

0
1248

मधेपुरा रेल इंजन कारखाने से गुरुवार की शाम 4 इंजन रवाना हुआ। कारखना से 10 इंजन देश को समर्पित किया गया था। रेलवे बोर्ड की मंजूरी मिलने के बाद से अब WAG-12 पटरियों पर सरपट दौड़ती नजर आती है। देश का सबसे शक्तिशाली रेल इंजन WAG-12 जो 12000 हॉर्स पावर क्षमता वाला रेल इंजन है जो 6000 टन तक के वजन के मालगाड़ियों को लेकर दौर सकता है। पूर्व मध्य रेलवे के दीन दयाल उपाध्याय से धनबाद के बीच एल्सटॉम द्वारा 12000 हॉर्स पावर का रेल इंजन मालगाड़ी लगाकर परिचालन शुरू किया गया है।

चार इंजन के साथ मधेपुरा से सहरसा पंहुचा इंजन

पहली वातानुकूलित रेल लोकोमोटिव इंजन WAG/12B-60027 का परिचालन दीन दयाल उपाध्याय स्टेशन से बरवाडीह के बीच लंबी मालगाड़ी के साथ शुरू किया गया। इसी मंगलवार को WAG/12B टूंडला पहुंची जो मालगाड़ियों को खींचने के लिए लगाया जाएगा। रेल इंजन को 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलाया जाएगा। पूर्व मध्य रेलवे के लिए यह ऐतिहासिक पल था जब सभी सुविधाओं से लेश भारत का सबसे अत्याधुनिक रेल इंजन रवाना किया गया। सबसे खास बात यह है की इसका निर्माण बिहार के मधेपुरा में किया गया है। मेक इन इंडिया के तहत फ्रांस की एल्सटॉम कंपनी द्वारा देश के सबसे अत्याधुनिक सुविधाओं वाला WAG-12 रेल इंजन का निर्माण किया गया है। 12000 हॉर्स पावर का रेल इंजन करीब 6000 टन तक के मालगाड़ियों को खींच सकता है। हाल ही में मधेपुरा रेल कारखाने से 6 देश का सबसे शक्तिशाली रेल इंजन देश को समर्पित किया गया है। WAG-12 लोकोमोटिव रेल इंजन का उपयोग माल, विशेष रूप से कोयले और लौह अयस्क के तेजी से आवागमन के लिए डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर (डीएफसी) में किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here