सहरसा में 2 किमी पटरियां नही बिछने के कारण नही चल पा रही सिलीगुड़ी, गुवाहाटी रूट की ट्रेनें!!

0
17474

60 के दशक में सहरसा से गंगजला चौक होकर कटिहार के लिए सीधी ट्रेन जाती थी। लेकिन स्वर्गीय ललित नारायण मिश्र के रेलमंत्री बनने के बाद से पुराने रूट को बंद कर घुमाकर सहरसा से मधेपुरा की तरफ ट्रेन चलाई जाती है। जैसे जैसे रेल सुविधाओं का विस्तार हुआ जाम भी विकराल रूप लेने लगी। पुर्णिया की तरफ से आने वाली ट्रेनों एवं जाने वाली ट्रेनो के किये इंजन बदलने की समस्या बनी रहती है। इसके साथ ही इंजन बदलने की समस्या के कारण सहरसा आज तक पूर्वोत्तर राज्यों से जुड़ नही पाया। 2 किमी सीधी रेल लाइन नही बिछाए जाने के कारण सहरसा से सिलीगुड़ी, गुवाहाटी की तरफ ट्रेनें नही चल पायी। सहरसा से गंगजला होकर सीधी रेल लाइन कारू खिरहरी हाल्ट पर मिलेगी जिसकी दूरी महज दो किमी है। रेलवे की माने तो इस दो किमी में कई पक्के मकान बन चुके है और इसे हटाने के लिए रेलवे, स्थानीय प्रशासन, और जनप्रतिनिधियों की सहयोग के बिना यह काम संभव नही है।

इस रूट से गुजरेगी रेल लाइन

सहरसा जंक्शन से रेल लाइन, बस स्टैंड के पीछे मलिन बस्तियों से होते हुए गंगजला चौक, पंचवटी चौक, इस्लामिया चौक होते हुए कारू खिरहरी हाल्ट में में मिलेगी। इस लाइन की मंजरी रेलवे बोर्ड से मिल चुकी है। 2019 के मई जून में इस लाइन के निर्माण की कवायद शुरू हुई थी, दुकानदारों को नोटिस भी दिया गया लेकिन कुछ ही महीनों में यह मामला ठंडे बस्ते में चला गया। कंस्ट्रक्शन विभाग को इस 2 किमी लाइन का निर्माण करना है। इसके बनने से सहरसा में जाम की समस्या कुछ हद तक कम भी होगी और मधेपुरा, पुर्णिया की और ट्रेनों का विस्तार होगा। बड़ी लाइन निर्माण के बाद से मधेपुरा, पुर्णिया कटिहार रेलखंड आज भी रेल के मामले में उपेक्षित है। महज दो किमी बायपास की वजह से मधेपुरा होकर लंबी दूरी की ट्रेनों का सपना आज भी अधूरा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here