नए साल से पहले सहरसा को मिली दो सौगात,वर्षों से शहर वासियों का सपना होगा पूरा

0
18249

बिहार सरकार ने सहरसा बंगाली बाजार सहित सहरसा को नगर निगम बनाए जाने कि मंजूरी दे दी है। सहरसा की वर्षों पुरानी मांग जल्द साकार होने की जगी आस

नए साल से पहले ही बिहार सरकार ने सहरसा को दो सौगात दे दी है। सहरसा जिले की वर्षों से चली आ रही बंगाली बाजार रेल ओवरब्रिज को कैबिनेट से मंजूरी मिल गई है। इसके साथ ही सहरसा को नगर परिषद से नगर निगम में बदलने की स्वीकृति मिल गई हैं। सहरसा बंगाली बाजार रेल ओवरब्रिज जिसका निर्माण कुल राशि 183 करोड़ 43 लाख 20 से किया जाना है। राज्य सरकार द्वारा 104 करोड़ 76 लाख 93 हजार करोड़ की प्रशासनिक स्वीकृति पहले ही मिल गई थी। पिछले वर्ष इन पांच शहर जिनमें ,मधुबनी, बेतिया, समस्तीपुर मोतिहारी और सासाराम को नगर परिषद से नगर निगम में बदला गया था। सहरसा में जिला प्रशासन द्वारा पूरी तैयारी किए जाने के बाद भी नगर निगम बनाए जाने कि मंजूरी नहीं मिल पाई थी जिससे लोगों में मायूसी थी।

620 मीटर होगी ओवरब्रिज की लंबाई

सहरसा में बंगाली बाजार ओवरब्रिज की केबिनेट से मंजूरी मिलने के बाद अब इसका निर्माण कब शुरू होता है इसका इंतजार रहेगा। पुल की कुल लंबाई 620 मीटर की होगी। नक्शे के अनुसार शहर के पूरब बाजार पेट्रोल पंप के पास से ओवरब्रिज ओवरब्रिज उठकर शहर के धर्मशाला रोड तरफ गिरेगा और शंकर चोक से एक भाग डी.बी रोड में जाकर गिरेगा।

सहरसा में बरियाही बायपास की मंजूरी भी मिल गई है। इस बायपास के बनने से बनगांव में लगने वाले जाम से मुक्ति मिलेगी। बलुआंहा स्थित कोशी नदी पर स्थित सेतु से बिना जाम में फंसे लोग बरियाही होते हुए सर्वा ढाला होते हुए मधेपुरा तरफ निकल जाएंगे।

सहरसा में बंगाली बाजार का शिलन्यास कितनी बार हुआ है।

सहरसा बंगाली बाजार का शिलान्यास तीन बार हो चुका है।

सहरसा में कितने ओवरब्रिज है।

सहरसा में फिलहाल एक भी ओवरब्रिज नहीं है।

सहरसा बंगाली बाजार रेल ओवरब्रिज की मांग कब से की जा रही है।

सहरसा में पिछले 25 वर्षों से ओवरब्रिज बनाने की मांग की जा रही है।

क्या सहरसा नगर निगम है।

सहरसा को नगर निगम बनाने की मंजूरी मिल चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here