गोरखपुर सिलीगुड़ी एक्सप्रेसवे 32 हजार करोड़ से बनेगा, सहरसा को मिलेगी 6 लेन सड़क

1
17947
Purnea bidupur NH

गोरखपुर सिलीगुड़ी के बीच बनेगा 6 लेन एक्सप्रेसवे। बिहार के सहरसा, पूर्णिया को मिलेगी बेहतरीन कनेक्टिविटी सिलीगुड़ी जाना होगा आसान

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने गोरखपुर में पूर्वांचल के साथ साथ बिहार और बंगाल को नई सौगात दी है। सहरसा वासियों के लिए एक बड़ी उपलब्धि होगी। नितिन गडकरी ने गोरखपुर से सिलीगुड़ी के लिए 6 लेन एक्सप्रेस वे की मंजूरी दे दी है। इस एक्सप्रेसवे के लिए 32 हजार करोड़ रुपए की घोषणा कि गई है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि 519 किमी लंबे ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस  वे से उत्तर प्रदेश, बिहार सहित बंगाल के कई इलाकों को अच्छी कनेक्टिविटी मिलेगी। इस एक्सप्रेस वे का डीपीआर जल्द तैयार कर कार्य की गति को आगे बढ़ाया जाएगा।

बिहार को मिलेगा 6 लेन एक्सप्रेसवे, गोरखपुर सिलीगुड़ी बड़ी सौगात

बिहार को एक और एक्सप्रेस वे की सौगात मिलने वाली है। गोरखपुर से सिलीगुड़ी के बीच नए एक्सप्रेस वे का निर्माण किया जाएगा। जिसमे से एक्सप्रेस वे का सबसे ज्यादा हिस्सा बिहार होकर गुजरेगा। इस एक्सप्रेस वे की कुल लंबाई करीब 600 किलोमीटर की होगी जिसमें से 416 किमी बिहार होकर गुजरेगा।

कोशी सीमांचल के लिए लाइफ लाइन होगी एक्सप्रेस वे।

उत्तर बिहार के कोशी सीमांचल के लोगो को पहली बाद बेहतर कनेक्टिविटी मिल जाएगी इस एक्सप्रेस वे के निर्माण होने से। दरभंगा अमास के बाद उत्तर बिहार के लोगों को दूसरी एक्सप्रेस वे की सौगात मिलेगी। बिहार के लोगों के उत्तर प्रदेश के साथ साथ बंगाल और नॉर्थ ईस्ट के लिए एक्सप्रेस वे वरदान साबित होगी। सहरसा, मधेपुरा, पूर्णिया और किशनगंज सीधे सिलीगुड़ी से जुड़ जाएंगे।

बिहार सहरसा के इन जिलों से गुजरेगी एक्सप्रेस वे।

600 किमी लंबे गोरखपुर से सिलीगुड़ी एक्सप्रेस वे में 416 किमी सड़क बिहार होकर जाएगी। गोरखपुर से निकलकर बिहार में गोपालगंज में प्रवेश करेगी, उसके बाद सीवान, सारण, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, मधुबनी, सुपौल, सहरसा, मधेपुरा , पूर्णिया, अररिया, किशनगंज होते हुए सिलीगुड़ी से जुड़ेगी।

जन प्रतिनिधियों को आना होगा आगे

सहरसा को इससे पहले कभी कोई अच्छी कनेक्टिविटी नहीं मिली, यह परियोजना शुरुवाती चरण में है। कोशी के जन प्रतिनिधियों को आगे आकर इस परियोजना के लिए सहयोग करने की जरूरत है। ताकि किसी भी स्थिति में यह 6 लेन एक्सप्रेस वे सहरसा होकर ही जाए। इससे पूर्व भी कई घोषणाएं हो चुकी है लेकिन अंत में जिले को मिलता कुछ नहीं है। बिहार के सड़क परिवहन मंत्री नितिन नवीन ने बिहार के कई जिलों से होकर सड़क जाने की बात कही थी जिसमें सहरसा भी शामिल है, बस उम्मीद है कि यह परियोजना सहरसा को मिले जिससे सिलीगुड़ी सहित पूर्वोत्तर भारत के लिए बेहतरीन एक्सप्रेस वे मिल जाएगी।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here