सहरसा स्टेशन पर अब हेरिटेज इंजन के बदले लगेगा क्रेन, 90 के दशक में वाष्प इंजन थी पहचान

0
3170

सहरसा रेलवे स्टेशन मंडल का सबसे महत्वपूर्ण स्टेशन है जहां वर्षों से हेरिटेज इंजन लगाने की मांग की जा रही थी इसके बदले क्रेन लगाने का निर्णय।

भारत और नेपाल के बीच मीटर गैज की ट्रेन चलती थी, अब आमान परिवर्तन के बाद से कई छोटी लाइन के डब्बे और इंजन जनकपुर में धूल फांक रहे है। सहरसा में वाष्प हेरिटेज इंजन लगाने को लेकर पूर्व के डीआरएम एवं अधिकारियों से कई बार बात भी कि गई लेकिन कोरोना और लॉक डाउन के कारण दो सालों से मामला लटक गया। अब क्रेन लगने से स्टेशन की खूबसूरती बढ़ेगी ये बड़ा सवाल है।

जनकपुर में मौजूद है हेरिटेज रेल इंजन, सहरसा में लगाने की थी योजना

पूर्व डीआरएम ने नेपाल स्थित जनकपुर जयनगर लाइन में छोटी लाइन के इंजन होने की बात कहीं थी और यह भी कहा था समस्तीपुर के अधिकारी नेपाल से इंजन लाने का प्रयास कर रहे है। जानकारी के अनुसार नेपाल स्थित जनकपुर और लोहट चीनी मिल में भी अंग्रेजो के जमाने का रेल इंजन मौजूद है। लोहट चीनी मिल में दो इंजन मौजूद थे जिसमे से एक इंजन को दरभंगा रेलवे स्टेशन पर लगाया गया है। सकरी चीनी मिल में चार इंजन मौजूद है। मिल पर विवाद चल रहा है, अगर यह मिल पूरी तरह बिहार सरकार के पास आ जाये तो, इंजन अनुरोध कर लिया जा सकता है। जैसे रेलवे ने बिहार सरकार से अनुरोध कर दरभंगा के लिये लिया था।

नेपाल स्थित मौजूद हेरिटेज इंजन

वाष्प इंजन से लेकर छोटी लाइन के इंजन का गढ़ था सहरसा

90 के दशक में सहरसा रेलवे स्टेशन पर छोटी लाइन का लोको यार्ड भी मौजूद था। जिसमें कई वाष्प इंजन से लेकर डीजल इंजन भी मौजूद थे। सहरसा के पुराने रेल इंजन आज चेन्नई, भुवनेश्वर सहित अन्य स्टेशन की सोभा बढ़ा रहे है। लेकिन सहरसा जो छोटी लाइन के समय में पूरे क्षेत्र की पहचान थी उस स्टेशन पर लगाने के लिए एक इंजन मौजूद नहीं है।

इंजन के बदले लगेगा क्रेन

सहरसा स्टेशन के सर्कुलेटिंग एरिया में अब हेरिटेज इंजन के बदले क्रेन लगाने की बात की जा रही है। सहरसा स्टेशन के सर्कुलेटिंग एरिया जो समस्तीपुर मंडल में सबसे बड़ा स्टेशन है जहां छोटी लाइन के यार्ड में वर्षों से क्रेन मौजूद है, जिसे हेरिटेज के रूप में सहरसा स्टेशन के सर्कुलेटिंग एरिया में लगाया जाएगा। लेकिन छोटी लाइन के इंजन जो क्षेत्र कि पहचान थी आज बड़े महानगरों की सोभा बढ़ा रहे है। रेलवे और बिहार सरकार की कोशिश से सकरी चीनी मिल स्थित रेल इंजन या जनकपुर स्थित रेल इंजन को सहरसा स्टेशन पर लगाया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here